Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

हमारे बारे में

//

केस बढ़ने से बनने लगे कंटेनमेंट जोन… सख्ती भी बढ़ने लगी… रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर और रायगढ़ में नाइट कर्फ्यू, धारा 144, स्कूल भी बंद…

रायपुर ।   कोरोनावायरस संक्रमण बढ़ने के साथ अब कंटेनमेंट जोन के साथ सख्ती भी बढ़ने लगी है। इस बीच, संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के कारण प्रदेश के रा...



रायपुर कोरोनावायरस संक्रमण बढ़ने के साथ अब कंटेनमेंट जोन के साथ सख्ती भी बढ़ने लगी है। इस बीच, संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के कारण प्रदेश के रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर और रायगढ़ जिले में नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे से चालू होकर सुबह 6 बजे तक रहेगा। एहतियातन धारा 144 भी लागू कर दी गई है।

चारों जिलों में सभी स्कूल, आंगनबाड़ी और प्ले स्कूलों को बंद करने के आदेश जारी किए गए हैं। इसके अलावा लाइब्रेरी और स्वीमिंग पूल को भी बंद किया गया है। इन जिलों में रैली-सभाएं, धरना-प्रदर्शन और सामाजिक कार्यक्रमों (विवाह, अंत्येष्टि को छोड़) पर प्रतिबंध लगाया गया है। लेकिन रात में वैवाहिक कार्यक्रम नाइट कर्फ्यू की वजह से नहीं हो पाएंगे। इसके अलावा राज्य के सभी एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए 72 घंटे पहले का आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य कर दिया गया है। इन जिलों के अलावा जहां संक्रमण दर 4 प्रतिशत से कम है, वहां भी कुछ कड़े प्रतिबंध लागू कर दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक दिन पहले ही बैठक लेकर काेराेना संक्रमण के हालात की समीक्षा की थी। उन्होंने सभी जिलों को अलर्ट रहने के साथ ही संक्रमण बढ़ने पर सख्ती बरतने के लिए कहा था। इसके बाद मंगलवार को सामान्य प्रशासन विभाग ने नई गाइडलाइन जारी कर दी है। फिलहाल नाइट कर्फ्यू समेत बैन के मामले चार प्रतिशत से ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में लागू होंगे, क्योंकि रायपुर में संक्रमण दर 6.47, दुर्ग में 4.81, बिलासपुर मे 4.06 और रायगढ़ में 8.39 प्रतिशत है। बाकी जिलों में जुलूस, रैलियाें, सभाओं, सार्वजनिक समाराेहों, सामाजिक तथा सांस्कृतिक, धार्मिक तथा खेल या अन्य सामूहिक आयोजनों पर प्रतिबंध लगाया गया है। गाइडलाइन में स्पष्ट कहा गया है कि अब सार्वजनिक स्थलों और बाजारों में मास्क नहीं लगाने वालों से सख्ती से जुर्माना वसूला जाए।

सीएम बोले- प्रभार वाले जिलों पर नजर रखें मंत्री
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंत्रियों से अपने प्रभार वाले जिलों में कोरोना के हालात पर नजर रखने के निर्देश दिए हैं। सभी मंत्री जिलों के जनप्रतिनिधियों, अफसरों एवं विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों के साथ वर्चुअल बैठक कर तैयारियों की समीक्षा करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना में बढ़ोतरी चिंताजनक है। संक्रमण रोकने स्थानीय स्तर पर पाबंदियां लगाने के लिए जिम्मेदार लोगों से बातचीत करें।

रायपुर एयरपोर्ट पर जांच अब जरूरी
प्रदेश के सभी एयरपोर्ट पर आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य कर दी गई है। वैक्सीन के दोनो डोज लगा चुके हैं उन्हें भी यात्रा से 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट पेश करना होगा। सभी रेल्वे स्टेशनों और राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की रेंडम जांच होगी।

बीजापुर में 21 केस, इनमें 14 जवान
जगदलपुर| सुकमा जिला कोरोना को लेकर हॉटस्पाट बन गया है। यहां एक दिन पहले यहां 38 जवान संक्रमित पाए गए थे। मंगलवार को फिर 9 मरीज मिले हैं। इधर, बीजापुर में पोटाकेबिन में पढ़ने वाली 11 साल की बच्ची कोरोना संक्रमित पाई गई हैं। यहां 14 जवानों सहित 21 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

निर्देश : जहां भी पाॅजिटिविटी रेट 4% से ज्यादा, वहां कड़े प्रतिबंध

कड़ाई : आंगनबाड़ी व स्वीमिंग पूल बंद, रैली-समारोह भी बैन

दूसरे राज्यों से आए लोगों को 72 घंटे पहले की निगेटिव रिपोर्ट जरूरी

झूठी-निगेटिव खबरों पर सख्ती
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि हमारा उद्देश्य संक्रमण और इससे संबंधित रिस्क को सीमित करना है, न कि आर्थिक गतिविधियों को धीमा करना। उन्होंने सभी कलेक्टरों को गाइडलाइन का सख्ती से पालन करने के लिए कहा है। कोरोना के नियंत्रण के लिए निजी डाॅक्टरों, अस्पतालों, एनजीओ, मीडिया प्रतिनिधियों के साथ बैठकें की जाएंगी। रोकथाम के उपायों का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। नकारात्मक तथा झूठी खबरों पर सख्ती से रोक लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि कलेक्टर और एसपी, चैम्बर के प्रतिनिधियों, माॅल मालिकों, थोक व्यापारियों, जिम, सिनेमा और थिएटर मालिकों, होटल-रेस्टोरेंट, स्वीमिंग पूल, ऑडिटोरियम, मेरिज पैलेस, इवेंट मैनेजमेंट के साथ बैठक करके यह तय करें कि वहां कुल क्षमता के एक-तिहाई लोगों को प्रवेश दिया जाए। सीएम ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए माइक्रो या मिनी कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं।

बेड-दवा की रोज मांगी रिपोर्ट
सीएम ने जिला प्रशासन को हाॅस्पिटल बेड, दवाईयों के स्टाॅक, पीएसए प्लांट्स और ऑक्सीजन की उपलब्धता की डेली रिपोर्ट देने को कहा है। उन्होंने जिला प्रशासन से कहा है कि कोरोना की पिछली दो लहर के दौरान सभी सरकारी और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की उपलब्धता की जानकारी रियल टाइम तथा ऑनलाइन उपलब्ध कराई जाए।

No comments

राजनीति

//