Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

हमारे बारे में

//

NASA के रोवर ने पहली बार बनाया मंगल का नक्शा, कभी 'लाल ग्रह' पर मौजूद थे समुद्र और नदियां

वॉशिंगटन मंगल की सतह पर ऊपरी जांच करने के साथ-साथ वैज्ञानिकों ने उसकी गहराई में दिलचस्पी दिखाई है। मंगल ग्रह का पहला नक्शा तैयार कर लिया गया...

वॉशिंगटन

मंगल की सतह पर ऊपरी जांच करने के साथ-साथ वैज्ञानिकों ने उसकी गहराई में दिलचस्पी दिखाई है। मंगल ग्रह का पहला नक्शा तैयार कर लिया गया है। 2018 में मंगल पर उतरी नासा की 'इनसाइट' जांच का इस्तेमाल करते हुए वैज्ञानिकों ने लैंडर के उपकरणों में से एक का इस्तेमाल करके मंगल का एक नया नक्शा बनाने में कामयाबी हासिल की है। इस उपकरण का इस्तेमाल सीधे ग्रहों की सतह के नीचे देखने के लिए किया जाता है।

ज्यूरिख (ETH) में स्विस फेडरल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के भूभौतिकीविद् सेड्रिक श्मेल्ज़बैक ने space.com को बताया कि हमने एक ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया जो यहां पृथ्वी पर विकसित की गई है। इसकी मदद से भूकंप के जोखिम के लिए स्थानों को चिह्नित करने और उपसतह संरचना का अध्ययन करने के लिए किया जाता है। यह तकनीक 'व्यापक कंपन' (ambient vibration) पर आधारित है।

चंद्रमा पर ही बनाया जाएगा पेट्रोल और स्टील! वैज्ञानिकों को 3 लाख किमी दूर स्पेस में मिला 'कार्बन का खजाना'

सात अरब सालों की विकास यात्रा पर नजर

नया नक्शा जो अभी तक जारी नहीं किया गया है, ग्रह के संभावित विकास के सात अरब वर्षों पर एक नजर डालता है। नक्शा गहरी तलछट की अनदेखी परतों साथ ही ठोस लावा के मोटे जमाव को दिखाता है जो धूल की 10 फीट मोटी परत में ढका हुआ है। माना जाता है कि तलछट की परत सतह से लगभग 230 फीट नीचे है, जिसके दोनों ओर प्राचीन लेव की एक परत है। श्मेल्ज़बैक ने कहा कि हम अभी भी इस बात पर काम कर रहे हैं कि इसकी व्याख्या कैसे की जाए।

कभी मंगल पर थे विशाल महासागर और नदियां

उन्होंने कहा कि हम पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि यह परत कितनी पुरानी है, लेकिन यह हमें दिखाता है कि उस साइट पर भूवैज्ञानिक इतिहास वास्तव में उससे कहीं अधिक जटिल है, जितना हमने मूल रूप से सोचा था। यह आशा की जाती है कि यह नई तकनीक वैज्ञानिकों को मंगल ग्रह के बारे में और ज्यादा जानने में मदद करेगी। संभावित रूप से अब यह जानना आसान होगा कि ग्रह की सतह के कुछ मील क्या है। इसी तकनीक का उपयोग करने वाले पिछले अध्ययनों से पता चला है कि मंगल पर कभी विशाल महासागर और नदियां होती थीं।

No comments

राजनीति

//