Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

हमारे बारे में

//

बादल छंटते ही छाया कोहरा, विमानों की आवाजाही रही ठप; कल से बढ़ सकती है ठंड

रायपुर- बादल छंटते ही छत्तीसगढ़ का बड़ा हिस्सा घने कोहरे की चपेट में आ गया है। मंगलवार सुबह रायपुर के ऊपर अचानक धुंध छा गई, जिसकी वजह से विमान...



रायपुर-बादल छंटते ही छत्तीसगढ़ का बड़ा हिस्सा घने कोहरे की चपेट में आ गया है। मंगलवार सुबह रायपुर के ऊपर अचानक धुंध छा गई, जिसकी वजह से विमानों को रनवे नहीं दिख रहा था। कोहरे की वजह से काफी देर तक विमानों की आवाजाही ठप रही।

राजधानी रायपुर में मंगलवार को अचानक मौसम बदला। घने कोहरे ने पूरे शहर को घेर लिया। इसकी वजह से हवाई सेवा प्रभावित हुई। हवाई अड्‌डा प्रबंधन के मुताबिक सामान्य उड़ान के लिए रनवे पर दृश्यता 1200 मीटर की होनी चाहिए। यानी पायलट को 1200 मीटर तक दिखना चाहिए, लेकिन सुबह 400 मीटर से आगे देखना लगभग असंभव हो गया था।

इसकी वजह से मुंबई, बेंगलुरु और दिल्ली आने-जाने वाले कई विमान प्रभावित हुए। मुंबई से आने वाला एक विमान तो कुछ देर तक आसमान में ही मंडराता रहा। विजिबिलिटी में सुधार के बाद उसे उतरने की इजाजत मिली। बताया जा रहा है कि 9 बजे के बाद स्थितियों में कुछ सुधार आया और सेवाओं को शुरू किया जा सका है।

सड़क पर भी रेंगते हुए चले वाहन

कोहरे ने सड़क पर यातायात को भी प्रभावित किया। दूर तक साफ दिखाई नहीं देने की वजह से वाहनों की रफ्तार धीमी हो गई। सुबह-सुबह स्कूल जाने वाले बच्चों को इसकी वजह से समय से बस मिलने में दिक्कत हुई। वहीं दूसरे शहरों से राजधानी आ रही बसों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

इसलिए हुआ घना कोहरा

रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र के विज्ञानी एचपी चंद्रा का कहना है, एक दिन पहले प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई। सोमवार को भी कहीं-कहीं बारिश की सूचना है। ऐसे में वातावरण में पर्याप्त नमी मौजूद थी। बादल छंटते ही अचानक तापमान में कमी आई तो पानी के कण संघनित हो गए। यही घना कोहरा है। धूप निकलते ही यह छंट भी जाता है।

कल से बढ़ सकती है ठंड

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक अभी सामान्य न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रहने की उम्मीद है। मंगलवार को बस्तर डिविजन में एक-दो जगह हल्की बारिश का अनुमान है। शेष छत्तीसगढ़ में बारिश की आशंका नहीं है। 24 नवंबर से न्यूनतम तापमान में कुछ कमी आएगी।

No comments

राजनीति

//