Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

हमारे बारे में

//

छुईखदान विकासखंड के ग्राम ठाकुरटोला में नवीन धान उपार्जन केन्द्र का शुभारंभ किया

प्रभारी मंत्री भगत ने ग्राम ठाकुरटोला में नवीन धान उपार्जन केन्द्र का किया शुभारंभ राजनांदगांव । खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण...

प्रभारी मंत्री भगत ने ग्राम ठाकुरटोला में नवीन धान उपार्जन केन्द्र का किया शुभारंभ


राजनांदगांव ।
खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी एवं संस्कृति विभाग तथा जिले के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत ने बुधवार को छुईखदान विकासखंड के ग्राम ठाकुरटोला में नवीन धान उपार्जन केन्द्र का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने ग्राम ठाकुरटोला में छात्रावास खोलने की घोषणा की। कार्यक्रम में किसानों को मशरूम बीज और स्वसहायता समूह की महिलाओं को साड़ी वितरण किया गया।

खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत ने कहा कि ठाकुरटोला में नए धान खरीदी केन्द्र खुलने से अब किसान पास में ही आसानी से धान का विक्रय कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि हम सभी का नैतिक कर्तव्य जनता की सेवा करना है और इस कार्य को ईमानदारीपूर्वक करना है। सौभाग्य की बात है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल किसान के बेटे हैं और हमारे राज्य के मुखिया हैं। जिन्होंने अन्नदाता किसानों की समस्या को नजदीक से देखा है और उसे दूर कर रहे हैं। मुख्यमंत्री राज्य के मुखिया बनने के बाद लगातार किसानों, गरीबों और छत्तीसगढ़ निवासियों के लिए कार्य कर रहे हैं। किसानों को लाभ दिलाने और कृषि के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए किसानों का कर्जा माफ, बिजली बिल हाफ और समर्थन मूल्य में धान खरीदी किया जा रहा है। शासन द्वारा राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत 9 हजार प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ धान का कटोरा है और यही इसकी पहचान है। राज्य में खेती किसानी करने वाले नागरिक निवास करते हैं। जब कोई भी कार्य किसान के लिए किया जाता है, तब उनके चेहरे पर खुशी की झलक दिखाई देती है। शासन की योजनाओं का लाभ लगभग शत-प्रतिशत लोगों को मिल रहा है। आदिवासी अंचल के निवासियों का तेंदूपत्ता संग्रहण मुख्य कार्य है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तेंदूपत्ता का मूल्य 2500 रूपए प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 4000 रूपए प्रति मानक बोरा किया है। यहां के निवासियों को आगे बढ़ाने के लिए शासन लगातार कार्य कर रही है। वर्तमान में 52 प्रकार के वन उत्पाद की खरीदी शासन द्वारा समर्थन मूल्य में किया जा रहा है। इन योजनाओं का लाभ आदिवासी अंचलों के निवासियों को मिल रहा है। सभी वर्ग के नागरिकों के लिए राशन कार्ड बनाए गए है। कोविड-19 संक्रमण के दौरान शासन ने इलाज, दवाई, भोजन की व्यवस्था सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गई। जरूरतमंदों को नि:शुल्क चावल वितरण किया जा रहा है। राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन किसान मजदूर न्याय योजना के माध्यम से भूमिहीन मजदूर किसानों को प्रतिवर्ष 6 हजार रूपए प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। शिक्षा, स्वास्थ्य बिजली, पानी सहित अन्य मूलभूत सुविधाएं नागरिकों को उपलब्ध कराना पहली प्राथमिकता है। उन्होंने जर्जर स्कूलों का मरम्मत कार्य कराने निर्देशित किया।

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष नवाज खान ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल किसान, आदिवासी, महिला, दीदियों, मजदूरों के लिए कार्य कर रही है। राज्य के मुख्यमंत्री बनने के बाद शासन द्वारा किसानों को आगे बढ़ाने के लिए लगातार कार्य किया जा रहा है। आदिवासी अंचल क्षेत्र में तेंदूपत्ता संग्रहण मुख्य कार्य है। जिसे शासन समर्थन मूल्य 4000 रूपए प्रति मानक बोरा में खरीदी कर रही है। उन्होंने कहा कि शासन किसान, गरीब, मजदूरों और जनता की समस्याओं को सुनकर उनका निराकरण करते हैं। महिला सशक्तिकरण के लिए स्वसहायता समूह के साढ़े 12 हजार करोड़ रूपए कर्ज माफी किया है। शासन लगातार किसानों और मजदूरों के लिए कार्य कर रही है।

उल्लेखनीय है कि नवीन धान उपार्जन केन्द्र ठाकुरटोला सेवा सहकारी समिति पैलीमेटा से अलग करके बनाया गया है। नवीन धान उपार्जन केन्द्र ठाकुरटोला अंतर्गत 19 गांव शामिल हैं। जिसमें 1130 किसानों ने पंजीयन कराया है। अब किसान पास में ही अपना धान आसानी से बेच सकेंगे। पूर्व में पैलीमेटा के अंतर्गत 29 गांव शामिल थे। जिससे धान क्रय करने के लिए अधिक दबाव रहता था। नवीन धान उपार्जन केन्द्र के प्रारंभ होने से किसानों को साहुलियत होगी। अब पैलीमेटा में 10 गांव के 1262 किसान धान का विक्रय करेंगे। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य ममता पाल, अपर कलेक्टर सीएल मारकण्डेय, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रज्ञा मेश्राम, एसडीएम सुनील शर्मा, महाप्रबंधक जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक सुनील वर्मा, जिला खाद्य अधिकारी भूपेन्द्र मिश्रा सहित जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं ग्रामवासी उपस्थित थे।

No comments

राजनीति

//