Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

हमारे बारे में

//

क ही पर्ची से बीज निगम और धान मंडी समिति को बेचा धान

जैजैपुर। एक ही पर्ची से बीज निगम और धान मंडी समिति को धान बेचा गया । मामले की शिकायत छहः माह पूर्व की गयी थी । उ. प्र . उप पंजीयक सहकारी सं...

जैजैपुर। एक ही पर्ची से बीज निगम और धान मंडी समिति को धान बेचा गया । मामले की शिकायत छहः माह पूर्व की गयी थी । उ. प्र . उप पंजीयक सहकारी संस्था जांजगीर ने जांच के आदेश दिये परंतु आज जांच के सात माह बाद भी कोई कार्यवाही नही हुई । मिली जानकारी के अनुसार करमनडीह निवासी कृष्ण कांत चंद्रा ने नारद चंद्रा पिता रामनाथ चंद्रा की शिकायत मुख्यमंत्री को वेब माध्यम द्वारा की थी । इस शिकायत पर मुख्यमंत्री शिकायत पोर्टल द्वारा यह शिकायत सहकारी संस्था जांजगीर भेजी गयी जिसके परिपालन मे उप पंजीयक जिला सहकारी संस्था डी आर जायसवाल ने जांच के आदेश सहकारिता संस्था प्रबंधक सुशील सूर्यवंशी को दिये है । संस्था प्रबंधक सुशील सूर्यवंशी का कहना है कि उनके द्वारा जांच कर रिपोर्ट उप पंजीयक को सौप दी गयी है परंतु शिकायत और जांच हो जाने के बाद भी कोई विभागीय कार्यवाही नहीं किया जाना मिलीभगत को दर्शाता है ।


जांच मे जानबूझकर देरी अब कार्यवाही मे देरी 

इस विषय मे संस्था प्रबंधक का कहना है कि हमारे द्वारा बीज निगम और धान समिति से संबंधित दस्तावेज मंगाये गये है और जांच के बाद निष्कर्ष के.आधार पर जांच प्रतिवेदन जिला सहकारी संस्था को भेज दिया गया है । दूसरी ओर शिकायत कर्ता का कहना है कि इस जांच मे.जांच दल ने बहुत दबाव मे जांच तो कर दिया है परंतु अब कार्यवाही करने जानबूझकर देरी की जा रही है । यह सब अनावेदक को फायदा पहुंचाने की नीयत से किया जा रहा है

न आवेदन आया न दस्तावेज मंगवाए

तीसरी ओर बीज निगम जांजगीर के प्रबंधक जी टी पांडे का कहना है कि हमारे पास कोई आवेदन नही आया है न तो लिखित ना ही मौखिक किसी तरह के दस्तावेज नही मंगाये गये है । हमारे द्वारा यहां जितने भी पंजीयन होते है बिना मांगे ही वह सारे पंजीयन धान मंडियों मे भेज दिया जाता है संस्था प्रबंधक क्यो झूठ बोल.रहे है नही पता । उन्होंने यह भी कहा है कि गांव.की सोसायटियो मे बहुत घपला चल रहा है जिसकी जांच.जरूरी है.। अगर किसी ने बीज निगम और धान समिति दोनो संस्था मे पंजीयन कराया है तो यह गलत है । इसकी जांच होनी चाहिए । इस तरह की मौखिक शिकायत आ रही पर हम लिखित शिकायत के बिना कुछ नही कर सकते है ।

इस मामले मे और भी नाम आने की संभावना

शिकायतकर्ता का दावा किया  है कि मै ऐसे अनेक लोगो को जानता हूँ जिन्होने बीज निगम और धान समिति दोनो संस्था मे पंजीयन कराया है और दोनो संस्था मे धान बेचकर दुगुना फायदा ले रहे और शासन को नुकसान पहुंचा रहे है । मेरे द्वारा शिकायत किये जाने पर जांच को दबाने की कोशिश की जा रही है पर मै जांच करवाकर रहूंगा । धान समिति मे जहाँ 2500 रुपये प्रति बोरा है वही बीज निगम मे लगभग 3200 सौ है और धान का रकबा भी बीज निगम मे ज्यादा है ।

No comments

राजनीति

//